खेल-खिलाड़ीबड़ी खबर

भाविना की उड़ान से टोक्यो में छाया हिंदुस्तान, टेबल टेनिस में गोल्ड मेडल पक्का है!

भारत की महिला टेबल टेनिस (Table Tennis) प्लेयर भाविना पटेल (Bhavina Patel) ने टोक्यो पैरालिंपिक्स (Tokyo Paralympics) में इतिहास रच दिया है. उन्होंने क्लास 4 टेबल टेनिस के फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है. इस इवेंट के फाइनल में जगह पक्की करने वाली वो पहली भारतीय हैं. ये कामयाबी उन्होंने चीन की पैडलर झांग मियाओ को सेमीफाइनल में 7-11, 11-7, 11-4, 9-11,11-8 से हराकर हासिल की. भाविना पटेल के फाइनल में पहुंचने से भारत के लिए अब सिल्वर मेडल तो कम से कम पक्का हो गया है. और, अगर सुपर फॉर्म में चल रही भाविना फाइनल भी जीत लेती हैं तो वो भारत को टोक्यो पैरालिंपिक्स खेलों के इतिहास का 5वां गोल्ड मेडल भी दिला देंगी.

भाविना पटेल का ये पहला ही पैरालिंपिक्स है और अपने पहले ही प्रयास में खेलों के सबसे बड़े मंच पर उन्होंने बड़ा कमाल कर दिया है. अहमदाबाद की 34 साल की भाविना ने इससे पहले क्वार्टर फाइनल में वर्ल्ड नंबर दो और  2016 रियो पैरालिंपिक की गोल्ड मेडल विजेता सर्बिया की बोरिसलावा पेरिच रांकोविच को सीधे गेमों में 3-0 से हराकर सेमीफाइनल का टिकट कटाया था. और अब सेमीफाइनल में उन्होंने चीनी पैडलर को अपने जानदार खेल से 3-2 से शिकस्त दी है.

गोल्ड मेडल से बस एक कदम दूर

भाविना के निशाने पर अब गोल्ड मेडल है, जिसे जीतने के लिए वो पूरी तरह से आश्वस्त दिख रही है. अपना पहला पैरालिंपिक्स खेल रही भाविना ने कहा कि फाइनल में भी वो अपना 100 फीसद देंगी और मुकाबला जीतेंगी. उन्होंने कहा कि जब वो यहां खेलने आई थीं तब भी यही सोचकर उतरी थी कि बस अपने गेम पर फोकस करना है और अपना बेस्ट देना है. और वही वो अब तक कर रही है. अब बस एक मुकाबले कि और बात है.

 

टोक्यो पैरालिंपिक्स में टेबल टेनिस इवेंट में भाविना के फाइनल में पहुंचने से सिल्वर मेडल पक्का हो गया है. इरादे गोल्डन जीत के भी हैं. और जिस सुपर फॉर्म में भाविना है, गोल्ड मेडल भी पक्का दिख रहा है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button