उत्तर प्रदेशगोरखपुरबड़ी खबर

Guru Purnima: सीएम योगी ने गोरक्षधाम में की ‘गुरु पूजा’, ‘जनता दर्शन कार्यक्रम’ में सुनी फरियाद

गोरखपुर: तीन दिन के दौरे पर शुक्रवार को गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार की सुबह गुरु पूर्णिमा के अवसर पर गोरखनाथ मंदिर में अपने गुरुजनों की पूरे विधि-विधान से पूजा की और उनका आशीर्वाद लिया. इसी क्रम में मुख्यमंत्री मंदिर परिसर में मौजूद सभी देव-विग्रहों के दरबार में भी गए और उनकी आराधना की.
नाथ संप्रदाय के सबसे बड़े मठ महायोगी गुरु गोरखनाथ मंदिर में गुरु पूर्णिमा का विशेष महत्व है और शायद यही कारण है कि खुद सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ गोरक्ष पीठाधीश्वर के रूप में अपने ब्रह्मलीन गुरुओं की प्रतिमाओं के समक्ष पहुंचकर वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पूरे विधि विधान से पूजा अर्चना कर अपने गुरुओं को नमन किया.
नाथ संप्रदाय के सबसे बड़े व प्रमुख मठ महायोगी गुरु गोरखनाथ मंदिर में गुरु और शिष्य परंपरा सदियों से चली आ रही है. मठ में शिष्य गुरु को ही अपना सब कुछ मानता है और अपना पूरा जीवन अपने गुरु को ही समर्पित कर देता है. इसका जीता जागता उदाहरण आज गुरु पूर्णिमा पर्व पर महायोगी गुरु गोरखनाथ मंदिर में देखने को मिला.
जब सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ पीठाधीश्वर के रूप में अपने ब्रह्मलीन गुरु मंत्र दिग्विजय नाथ और महंत अवैद्यनाथ के समाधि स्थल पर पहुंचकर वैदिक मंत्रोच्चार के बीच ब्रह्मलीन गुरुओं का पूजा अर्चन किया और फिर उन्हें तिलक लगाकर उनका नमन भी किया. इस दौरान संस्कृत विद्यालय के छात्र लगातार वैदिक मंत्र उच्चारण कर रहे थे. वहीं, मुख्यमंत्री योगी गुरु गोरक्षनाथ गौ शाला में पहुंचकर गोवंशियो को भोजन कराया और उनका पैर छूकर नमन भी किया.
सीएम योगी ने हिंदू सेवाश्रम आश्रम में दूरदराज से आए फरियादियों से मुलाकात कर उनकी समस्याओं के संबंध में जानकारी प्राप्त की. सीएम ने खुद फरियादियों के प्रार्थना पत्र को पढ़कर संबंधित अधिकारियों को जल्द ही इसके निस्तारण के संबंध में निर्देश दिए.
बता दें, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जब भी गोरखपुर आते हैं तो वह महायोगी गुरु गोरखनाथ मंदिर परिसर में ही हिंदू सेवाश्रम आश्रम में जनता दर्शन कार्यक्रम के तहत सैकड़ों फरियादियों से मिलकर उनकी समस्याओं का त्वरित निस्तारण संबंधित अधिकारियों द्वारा कराते हैं. ‘जनता दर्शन कार्यक्रम’ में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे. बकायदा मेटल डिटेक्टर से होकर प्रत्येक व्यक्ति को हिंदू सेवाश्रम सभागार में बैठाया गया और कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत उचित दूरी मास्क, सैनिटाइजर आदि की भी व्यवस्था सुनिश्चित की गई थी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button