उत्तर प्रदेशबड़ी खबरमथुरा

सीएम योगी का बड़ा फैसला: मथुरा-वृंदावन सहित यूपी के तीर्थ क्षेत्रों में नहीं बिकेगी मांस व मदिरा

मथुरा : श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर महाविद्या रामलीला मैदान में ब्रज तीर्थ विकास परिषद द्वारा आयोजित किए गए कार्यक्रम में शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंचे. यहां सीएम योगी ने कहा कि पूज्य संतों का कहना है कि ब्रज के सभी क्षेत्रों में मांस की बिक्री पर रोक लगनी चाहिए और यह होना चाहिए. प्रशासन इस संबंध में योजना बनाकर जो लोग इस क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं उनके पुनर्वास की व्यवस्था करें. साथ ही उन्होंने कहा कि पहले की सरकारों के जनप्रतिनिधि मंदिर जाने तक में डरते थे, लेकिन आज ऐसा नहीं है आज वह लोग भी कहते हैं कि राम हमारे हैं.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूज्य संतों का कहना है कि ब्रज के सभी क्षेत्रों में मांस की बिक्री पर रोक लगनी चाहिए और यह होना चाहिए. प्रशासन इस संबंध में योजना बनाकर, जो लोग इस क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं उनके पुनर्वास की व्यवस्था करें. साथ ही उन्होंने कहा कि पहले की सरकारों के जनप्रतिनिधि मंदिर जाने तक में डरते थे, लेकिन आज ऐसा नहीं है. आज वह लोग भी कहते हैं कि राम हमारे हैं.

ब्रज तीर्थ विकास परिषद द्वारा मथुरा में जन्माष्टमी पर आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 5 हजार वर्षों से जिस कार्य के लिए हमारी ब्रजभूमि तरसती थी, आज उसको स्वरूप प्रदान करने का प्रयास हो रहा है. पुरातन परंपरा और काया को बनाए रखते हुए नए कलेवर के साथ परी क्षेत्र को विकास की ओर अग्रसर करना है. इसी दिशा में ब्रज तीर्थ विकास परिषद कार्य कर रहा है. ब्रज के क्षेत्र के विकास के लिए कहीं भी कोई भी कोर कसर नहीं छोड़ी जाएगी.यहां जितना भी संभव हो पाएगा हमारे दोनों मंत्री, दोनों विधायक, महापौर, हमारी सांसद और हमारे यहां के सभी जनप्रतिनिधि गण लगातार विकास के लिए प्रयत्नशील हैं. यहां का बहुत विकास भी हो रहा है और हम अपनी सांस्कृतिक विरासत को भी बनाए रखें, क्योंकि वह हमारी पहचान है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सैकड़ों वर्षो से दबी हुई भावनाएं अपने नए रूप में सामने आ रही हैं. अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर का निर्माण कार्य प्रधानमंत्री जी के कर कमलों से प्रारंभ हो चुका है. कल राष्ट्रपति जी ने रामलला के दर्शन किए थे. आजादी के बाद पहले राष्ट्रपति हैं, जो अयोध्या आए और उन्होंने रामलला के दर्शन किए हैं. प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी जी पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने रामलला के दर्शन किए. भारत के आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत के प्रति इन सभी देव विग्रहों की पूजा करने पर दर्शन करने पर भी लोगों को इससे पहले की सरकारों को सांप्रदायिकता का भय होता था.

कहीं हम पर सांप्रदायिक होने का लेवल ना लग जाए. लेकिन अब मोदी जी के नेतृत्व में जो नया भारत है, वह अंगड़ाई ले रहा है. जो लोग पहले मंदिर जाने में संकोच करते थे अब वह भी कह रहे हैं राम हमारे भी हैं. यह है परिवर्तन, आज लोगों में हो रहा है. पहले होड़ किस बात की होती थी पहले आप के त्यौहार पर ना ही कोई मंत्री, नाहीं मुख्यमंत्री, ना ही कोई विधायक बधाई देने के लिए आता था.

भारतीय जनता पार्टी के प्रतिनिधियों को छोड़ दें, तो शेष लोग दूर रहते थे, कोई भी सहभागी नहीं बनता था. पर्व और त्योहारों पर अलग से बंदिशें लगती थीं. पर्व त्योहार नहीं मनाना है, लाइट नहीं रहेगी, पानी नहीं रहेगा, साफ-सफाई नहीं होगी, स्वच्छता की व्यवस्था नहीं होगी. अलर्ट जारी होता था कि आप रात 10:00 बजे के बाद कहीं कार्यक्रम नहीं करेंगे, 12:00 बजे के बाद यह कार्यक्रम नहीं करेंगे. आतिशबाजी नहीं करेंगे, रंगोत्सव का कार्यक्रम नहीं करेंगे. लेकिन अब तो ऐसी कोई बंदिश नहीं है.

सीएम ने कहा- अब तो हर्षोल्लास के साथ अपने पर्व को मनाइए और हमारे कान्हा तो रात्रि 12:00 बजे को जन्म लेते हैं, यह सब वृंदावन बिहारी की कृपा नहीं तो और क्या है. यह साक्षात कृपा है हम सब ने महसूस किया है. जब तक वैष्णव कुंभ था तबतक कोई कोरोना वायरस नहीं था और जब वैष्णव कुंभ समाप्त हुआ जैसे ही पूजा संतों ने यहां से दूसरे कार्यक्रम के लिए प्रस्थान किया तो उसी समय कोरोना की चपेट में पूरा देश और दुनिया आ गई.

ब्रज में मांस बिक्री पर लगेगी रोक

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 2017 में पहले यहां पर नगर निगम का गठन कराया गया, फिर नगर निगम के गठन के बाद यहां के पूज्य संतों और सभी की तमन्ना है कि ब्रज के सभी क्षेत्रों में किसी भी प्रकार का मध्य मास आदि का सेवन ना हो और यह होना चाहिए. मैं प्रशासन से कहूंगा कि वह शीघ्र ही योजना बना करके उन लोगों को जो क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं, व्यवस्थित पुनर्वास करने की व्यवस्था करें. खासतौर पर उनकी ट्रेनिंग होनी चाहिए, उनकी काउंसलिंग होनी चाहिए. उन लोगों को व्यवस्थित रूप से उनके लिए छोटे-छोटे स्टॉल बना दिए, जाएं वह दूध वहां पर बेचने का कार्य करें. अगर वह दूध बेचने का यह कार्य करेंगे तो एक बार फिर से हम द्वापर युग के उन क्षणों को स्मरण कर पाएंगे. जब यह धरती देश और दुनिया को नई दिशा देती थी. फिर से उस बात के लिए यह धरती अपने आप को तैयार कर रही है.

फूलडोल महाराज ने जानकारी दी

जानकारी देते हुए फूलडोल महाराज ने बताया कि हमारे द्वारा मुख्यमंत्री जी से मांग की गई है कि 84 कोष को तीर्थ स्थल घोषित किया जाए. इसके साथ ही जगह-जगह शौचालय पांडाल इत्यादि की व्यवस्था की जाए. उन्होंने कहा कि हमने मुख्यमंत्री जी से मांग की है कि यहां जो कुंभ मेला होता है, वह हर बार भव्य रूप से मनाया जाए. यमुना शुद्धिकरण जल्द से जल्द कराया जाए. महाराज ने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग की है कि वह मथुरा से ही चुनाव लड़ें और यहां से जीतकर मुख्यमंत्री बनें ताकि प्रदेश और तरक्की कर सके. उन्होंने कहा कि मांस बिक्री को लेकर मुख्यमंत्री जी द्वारा मंच से भी संबोधन किया गया है. ब्रज में मांस-मदिरा बंद होनी चाहिए, यह उनकी भी इच्छा है, और 84 कोष को वह तीर्थ स्थल घोषित करेंगे यह भी उनकी इच्छा है. और मेरे द्वारा भी यही मांग की गई है.

मुख्यमंत्री से संतों ने की मांग

पूरे देश और विदेशों में रहने वाले कान्हा के भक्त, कान्हा के जन्म उत्सव को बड़े ही धूमधाम से मना रहे हैं. वहीं प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ भी कान्हा का जन्मोत्सव मनाने के लिए मथुरा पहुंचे थे. यहां शासन प्रशासन द्वारा जन्माष्टमी को भव्य रूप से बनाया जा रहा है. वहीं ब्रज तीर्थ विकास परिषद की ओर से जनपद के महाविद्या रामलीला मैदान में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों के मध्य कार्यक्रम आयोजित कराया, जिसमें देश के कोने-कोने से आए श्रद्धालु भक्तों ने जमकर आनंद लिया.

वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ भी कार्यक्रम में सहभागिता करने के लिए पहुंचे. इस दौरान साधु संतों ने मुख्यमंत्री से अपील की, कि जनपद में मांस मंदिरा पर रोक लगे. चौरासी कोस तीर्थ स्थल घोषित हो. यमुना शुद्धिकरण जल्द से जल्द हो और योगी आदित्यनाथ मथुरा से चुनाव जीतकर एक बार पुनः मुख्यमंत्री बनें.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button