बड़ी खबर

काबुल एयरपोर्ट पर हुए हमले में 13 अमेरिकी सैनिकों समेत कम से कम 72 लोगों की मौत, ISIS-K ने ली हमले की जिम्मेदारी

अफगानिस्तान में गुरुवार को काबुल हवाई अड्डे के पास दो आत्मघाती हमलावरों और बंदूकधारियों की तरफ से भीड़ पर किए गए हमले में कम से कम 72 लोगों की मौत हो गई जबकि कई अन्य के घायल होने की खबर है. एक अफगान अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया कि हवाई अड्डे पर हुए हमले में कम से कम 60 अफगान मारे गए और 143 अन्य घायल हुए हैं.

वहीं पेंटागन ने बताया कि काबुल हवाई अड्डे के बाहर ISIS की तरफ से किए गए हमले में 13 अमेरिकी सैनिक मारे गए और 18 अन्य घायल हो गए. इस बीच आतंकी समूह ISIS-K ने समूह के टेलीग्राम अकाउंट पर काबुल हवाई अड्डे पर हुए घातक दोहरे हमले की जिम्मेदारी ली है. अफगानिस्तान में अस्पतालों का संचालन करने वाली इटली की एक संस्था ने कहा कि वो हवाईअड्डे पर हमले में घायल लोगों का कर रहे हैं जबकि कुछ घायलों ने अस्पताल लाने के दौरान दम तोड़ दिया.

 

काबुल में अमेरिकी दूतावास ने अपने नागरिकों के लिए जारी किया अलर्ट

काबुल में अमेरिकी दूतावास ने गुरुवार को काबुल में हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के बाहर दो विस्फोटों के बाद अमेरिकी नागरिकों को हवाई अड्डे की यात्रा करने से बचने और हवाई अड्डे के गेट से बचने के लिए एक सुरक्षा अलर्ट जारी किया है. अफगानिस्तान में संस्था के प्रबंधक मार्को पुनतिन ने कहा कि सर्जन रात में भी सेवा देंगे. उन्होंने कहा कि घायलों की बढ़ती संख्या को देखते हुए बिस्तरों की संख्या बढ़ाई जा रही है. वहीं संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने काबुल हवाईअड्डे पर हुए आतंकवादी हमले की निंदा की है. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने हमले को बर्बर करार देते हुए कहा कि निकासी अभियान तेजी से जारी रखने की जरूरत है.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने काबुल हवाईअड्डे पर हुए आतंकवादी हमले की निंदा करते हुए कहा कि ये घटना अफगानिस्तान के जमीनी हालात की अस्थिरता को दर्शाती है. गुटेरेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने प्रेसवार्ता में कहा कि महासचिव काबुल की वर्तमान स्थिति और विशेष रूप से हवाई अड्डे के हालात को लेकर चिंतित हैं और इस पर करीबी नजर रख रहे हैं. वो इस आतंकवादी हमले की निंदा करते हैं, जिसमें कई नागरिक मारे गए और घायल हुए. वो मृतकों के परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं.

जानकारी के मुताबिक एक हमलावर ने उन लोगों को निशाना बनाकर हमला किया जो गर्मी से बचने के लिए घुटनों तक पानी वाली नहर में खड़े थे और इस दौरान शव पानी में बिखर गए. ऐसे लोग जो कुछ देर पहले तक विमान में सवार होकर निकलने की उम्मीद कर रहे थे वो घायलों को एंबुलेंस में ले जाते देखे गए. उनके कपड़े खून से सन गए थे. ये विस्फोट ऐसे समय हुआ है जब अफगानिस्तान पर तालिबान के नियंत्रण के बाद से हजारों अफगान देश से निकलने की कोशिश कर रहे हैं और पिछले कई दिनों से हवाई अड्डे पर जमा हैं. काबुल हवाई अड्डे से बड़े स्तर पर लोगों की निकासी अभियान के बीच पश्चिमी देशों ने हमले की आशंका जताई थी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button