विदेश

व्लादीमीर पुतिन के काफिले पर हमला।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की जान यूक्रेन से युद्ध के बाद खतरे में बताई जाती है जानकारी के मुताबिक हाल ही में उनकी एक यात्रा के दौरान उनके काफिले पर विस्फोटकों से हमला किया गया था। एक कार ने पुतिन के काफिले में आगे की गाड़ी को रोका, जबकि दूसरी कार काफिले के चारों ओर घूमने लगी और रूसी राष्ट्रपति को ले जा रही गाड़ी पर विस्फोटक फेंक दिया।

एजेंसियों के हवाले से कहा गया है कि पुतिन अपने घर के रास्ते में थे, तभी कुछ दूर काफिले की पहली एस्कॉर्ट कार को एक एम्बुलेंस ने रोका, दूसरी एस्कॉर्ट कार बिना रुके इधर-उधर चली गई, इसके बाद तीसरी कार के सामने के बाएं पहिए से तेज धमाके की आवाज आई। इसी कार में पुतिन सवार थे तेज धमाके की आवाज के बाद आग और धुआं आने लगा लेकिन पुतिन को कुछ भी नहीं हुआ रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस हमले के बावजूद, पुतिन अपनी मंजिल तक सही सलामत पहुंच गए.

6 महीने से भी ज्यादा समय से जारी रूस-यूक्रेन के बीच जंग
हमले की ये खबर ऐसे समय में सामने आई है जब रूस और यूक्रेन के बीच चल रही जंग को 6 महीने से ज्यादा का समय हो गया है। इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने रूसी कब्जे से हाल ही में मुक्त कराये गये शहर इजिअम का बुधवार को दौरा किया और इसे अपने कब्जे में लेने को लेकर किए गए प्रयासों के लिए सैनिकों का अभिनंदन किया और उन्हें धन्यवाद देते हुए उनके प्रयासों की सराहना की।

शहर में स्थित सिटी हॉल भले ही जलकर तबाह हो चुका है, लेकिन यूक्रेन का झंडा अब वहां उसके सामने शान से लहरा रहा है.रूसी सैनिकों ने पिछले हफ्ते युद्धग्रस्त शहर को छोड़ दिया था, क्योंकि यूक्रेन ने एक व्यापक जवाबी कार्रवाई की थी. कुछ दिन पहले ही यूक्रेन के सैनिकों ने देश के उत्तरपूर्वी खारकीव क्षेत्र के विशाल इलाकों को फिर से कब्जे में ले लिया था। यह माना जा रहा है कि पुतिन को मारने की यूक्रेन की पूरी कोशिश होगी। सुरक्षा एजेंसियों का मानना है कि जिस तरीके की सुरक्षा घेरे में पुतिन रहते हैं उसमें जिस ढंग से विस्फोटक फेंका गया है ऐसा लगता है कि यह लोग आत्मघाती दस्ते के सदस्य थे जो किसी भी कीमत पर पुतिन को मारना चाहते थे लेकिन शायद आयन मौके पर उनका इरादा बदल गया और उन्होंने अपनी जान बचाने के लिए अपनी प्लानिंग बदल दी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button