लखनऊ

सहारा हॉस्पिटल में आंत की जटिल सर्जरी से बच्चे को मिला नया जीवन

डॉ. अजय यादव ने जटिल ऑपरेशन करके बच्चे की बचायी जान।

लखनऊ : प्रयागराज के रहने वाले दो साल एक महीने के बच्चे आदविक को पेट दर्द व उल्टी की तकलीफ थी। पेट दर्द होने पर वह अक्सर पेट को पकड़ लेता था। इसके अलावा उसको 15 दिन से लगातार पांच से छह बार दिन में मोशन भी हो रहा था। तब बच्चे के माता-पिता ने बच्चे को प्रयागराज में बाल रोग विशेषज्ञ को दिखाया, जहां उन्होंने बताया कि बच्चे को कोल्ड डायरिया की शिकायत है। डॉक्टर ने कुछ दवाएं दीं। थोड़े समय तो बच्चा ठीक रहा परंतु उसके बाद फिर से उसके पेट में दर्द और उल्टी की शिकायत शुरू हो गयी। प्रयागराज के प्राइवेट हॉस्पिटल में ही बच्चे को भर्ती कराना पड़ा तो पता चला कि बच्चे के पेट में इंफेक्शन है। वहीं उसका इलाज शुरू किया गया। लगभग 5 दिन एडमिट रहने के बाद डेढ़ महीने तक बच्चा ठीक रहा, परन्तु पुनः उसे उल्टी और लैट्रिन बार-बार आने की शिकायत शुरू हो गयी, तब उसके एक रिश्तेदार ने उसे सलाह दी कि सहारा हॉस्पिटल के गैस्ट्रो सर्जन डॉक्टर अजय यादव को दिखाएं। तब उनके माता-पिता ने लखनऊ आकर सहारा हॉस्पिटल के डॉक्टर अजय यादव से परामर्श लिया। डॉक्टर यादव ने सभी रिपोर्ट देखने के बाद सी.टी.स्कैन की जांच करवायी और उसकी रिपोर्ट देखने के बाद बच्चे की तुरन्त सर्जरी करने का निर्णय लिया। सी. टी. स्कैन की रिपोर्ट से पता चला था कि बच्चे की आंतें जन्म से उलझी हुई हैं और घूम रही हैं जिससे खून की सप्लाई कम हो गयी है। साथ ही बच्चे के नोड्स यानी गांठ भी दिखाई दी।‌ मरीज के माता-पिता को बताया गया कि इसका एकमात्र इलाज सर्जरी द्वारा ही सम्भव है, परन्तु पहले बच्चे के पेट में जो इंफेक्शन था, उसको नियंत्रित करके सर्जरी की गयी। जिस समय बच्चे की सर्जरी का प्लान किया गया था उस समय ब्लड सर्कुलेशन भी बच्चे के अन्दर पूरी तरह से नहीं हो रहा था, क्योंकि इन्फेक्शन बढ़ा हुआ था। यद्यपि कि यह एक अत्यंत जटिल सर्जरी थी फिर भी डॉक्टर अजय यादव ने इस चुनौती को स्वीकार करते हुए बहुत कुशलता और योग्यता पूर्वक इसे सम्पन्न किया। इस सर्जरी में डॉ.अजय यादव ने आंतों की पोजीशन को चेंज किया और घूमी और मुड़ी हुई जो भी आंतें थी उनको लेजर विधि से ऑपरेशन करके ठीक किया। यह बहुत ही जटिल केस था, आमतौर पर इसमें मरीज का बचना बहुत मुश्किल हो जाता है, लेकिन डॉ. अजय यादव ने सफलतापूर्वक ऑपरेशन करके बच्चे के माता-पिता को बहुत बड़ी खुशी दी। बच्चे के माता-पिता ने डॉक्टर अजय यादव के इलाज से संतुष्ट होकर उनके प्रति अपना आभार प्रकट किया। साथ ही यहां की सुविधाओं व व्यवस्थाओं के लिए मैनेजमेंट की भूरि-भूरि प्रशंसा भी की।

सहारा इंडिया परिवार के वरिष्ठ सलाहकार अनिल विक्रम सिंह ने बताया कि हमारे अभिभावक “सहाराश्री” के विजन की तरफ बढ़ते हुए सहारा हॉस्पिटल नित नये आयाम स्थापित कर रहा है। साथ ही यह जानकारी भी दी कि सहारा हॉस्पिटल का गैस्ट्रो सर्जरी विभाग अत्याधुनिक उपकरणों से लैस है और साथ ही अति कुशल व अनुभवी टीम अपने अनुभवों से मरीजों को निरंतर लाभान्वित कर रही है। समय-समय पर जटिल से जटिल सर्जरी में सफलताएं प्राप्त कर सहारा हास्पिटल निरंतर नयी ऊंचाईयों को छू रहा है।a

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button