उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरलखनऊ

अपराधियों पर योगी सरकार सख्त, गैंगस्टर के आरोपियों की 15 अरब 74 करोड़ की संपत्तियां जब्त

लखनऊ : यूपी की योगी सरकार ने गैंगस्टर के आरोपियों पर बड़ी कार्रवाई की है. अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने आंकड़ा जारी करते हुए बताया कि उत्तर प्रदेश के गैंगस्टर के आरोपियों पर शिकंजा कसा गया है. पिछले चार साल के अपने कार्यकाल में योगी सरकार ने 15 अरब 74 करोड़ से अधिक की अवैध संपत्तियां जब्त की हैं.
सरकार के कार्यकाल में 13 हजार 700 से अधिक केस गैंगेस्टर एक्ट के तहत पंजीकृत किए गए हैं. इनमें 43 हजार से अधिक आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है. इसमें सबसे ज्यादा कार्रवाई जनवरी 2020 से अब तक की गयी है. इस अवधि में कुल 13 अरब, 22 करोड़ रुपये से अधिक की अवैध संपत्तियां गैंगस्टर अधिनियम के तहत जब्त की गईं हैं.
मुठभेड़ में मारे गए 139 अपराधी
उत्तर प्रदेश में बीते चार साल में संगठित अपराधों पर जमकर डंडा चलाया गया. अपर मुख्य सचिव गृह ने बताया कि विगत 20 मार्च 2017 से 20 जून 2021 तक की अवधि में कुल 139 अपराधी गिरफ्तारी के दौरान हुई पुलिस मुठभेड़ में मारे गए हैं जबकि 3196 घायल हुए हैं.
इन कार्रवाइयों में पुलिस बल के 13 जवान भी शहीद हुए और 1122 पुलिस कर्मी घायल भी हुए हैं. बताया कि इसी कड़ी में प्रदेश के 25 कुख्यात माफिया अपराधियों को चिह्नित कर उनके खिलाफ भी कार्रवाई की गई है.
एक नंबर पर बनारस जोन
गैंगस्टर अधिनियम में सबसे ज्यादा कार्रवाई वाराणसी जोन में की गयी. वाराणसी में कुल 420 प्रकरणों में 2 अरब, 2 करोड़, 29 लाख रूपये से अधिक की संपत्ति जब्त की गई.
गोरखपुर जोन में 208 प्रकरणों में 2 अरब, 64 करोड़, 85 लाख रुपये से अधिक और बरेली जोन में एक अरब, 84 करोड़, 82 लाख से अधिक की संपत्ति जब्त की गई.

अन्य पर भी कार्रवाई

उत्तर प्रदेश में 25 चिह्नित माफियाओं में से मुजफ्फरनगर के संजीव उर्फ जीवा, कमिश्नरेट लखनऊ के अंडरवर्ल्ड डॉन ओम प्रकाश उर्फ बब्लू श्रीवास्तव, कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर के सुंदर भाटी, सिंहराज भाटी को आजीवन कारावास की सजा हुई है.
वहीं, प्रभावी पैरवी से माफिया आकाश जाट को 02 मुकदमों में अलग-अलग 07 व 03 वर्ष की सजा हुई है. कोर्ट में पैरवी कर आकाश के गैंग के सहयोगी अमित उर्फ भूरा को 3 वर्ष व 1 वर्ष की सजा करवाई गई है.
अन्य 8 चिह्नित कुख्यात अपराधियों के विरुद्ध कार्रवाई करते हुए लगभग 40 करोड़ की संपत्ति का जब्तीकरण, ध्वस्तीकरण व अवैध कब्जे से अवमुक्त कराई गई है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button