उत्तर प्रदेशबड़ी खबरबागपतसत्ता-सियासत

टिकट वापस लिए जाने से नाराज पूर्व विधायक वीरपाल राठी, बोले- जल्द करूंगा RLD नेताओं की साजिश का पर्दाफाश

यूपी विधानसभा चुनाव (UP Vidhan Sabha Chunav) के लिए सपा-आरएलडी गठबंधन में उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतार रहे हैं, लेकिन कई सीटों पर हालात कुछ ठीक नहीं हैं. बागपत की सबसे हॉट सीट यानी छपरौली विधानसभा सीट (Chaproli Seat)  से टिकट देकर काट दिए जाने से आरएलडी नेता वीरपाल नाराज हैं. दरअसल पूर्व विधायक को आरएलडी ने छपरौली विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाया था, लेकिन दो दिन बाद ही पार्टी ने उनका टिकट काट दिया. इस बात से वह काफी नाराज हैं. टिकट काटे जाने का दर्द बयां करते हुए पूर्व विधायक और आरएलडी नेता वीरपाल राठी ने पार्टी के दूसरे नेताओं पर साजिश का आरोप लगाया है.

वीरपाल राठी (Virpal Rathi) का कहना है कि उनकी छवि धूमिल करने ती कोशिश की जा रही है. उनका आरोप है कि उनकी छवि बिगाड़ने के लिए एक लड़की की वॉइस रिकॉर्डिंग करके ऑर्डियो बनाया गया और उसे उनकी ऑडियो बताकर वायरल किया जा रहा है. आरएलडी नेता वीरपाल राठी ने इस मामले में बागपत (Bagpath) की बड़ौत कोतवाली में अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कराया है. साथ ही उन्होंने वायरल ऑडियो की जांच कर सख्त कार्यवाही की मांग की है.

टिकट वापस लिए जाने से नाराजगी

पूर्व विधायक का आरोप है कि राजनीतिक प्रतिद्वंदिता की वजह से उन्हें शिकार बनाने की कोशिश की गई है. इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि वह इस तरह के लोगों का जल्द पर्दाफाश करेंगे. बता दें कि वीरपाल राठी 2012 में बागपत की छपरौली विधानसभा सीट से विधायक चुने गए थे. इस बार फिर से आरएलडी मुखिया जयंत चौधरी ने उन्हें छपरौली से प्रत्याशी बनाया था. लेकिन 2 दिन बाद ही उनका टिकट काट दिया गया. जयंत चौधरी ने वीरपाल का टिकट काटकर आरएलडी से पूर्व विधायक रहे प्रोफेसर अजय कुमार को टिकट दे दिया. माना जा रहा है कि कथित ऑडियो वायरल होने की वजह से ही आरएलडी नेता का टिकट काट दिया गया है.

RLD में अंदरूनी कलह उजागर

टिकट से हाथ धोने के बाद पूर्व विधायक वीरपाल राठी अब उनके खिलाफ साजिश करने वाले आरएलडी नेताओं के खिलाफ मैदान में उतर आए हैं. इससे साफ पता चलता है कि RLD में भी अंदरूनी कलह दीसरे दलों से कम नहीं है. पार्टी की अंदरूनी कलह का खामियाजा RLD को आगामी विधानसभा चुनाव में भुगतना पड़ सकता है. इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि RLD में छपरौली से टिकट मांगने वालों की एक लंबी फेहरिस्त थी, उसमे वीरपाल राठी बाजी मारकर ले गए. छपरौली RLD का ये वो मजबूत गढ़ है, जहां से अब तक कोई भी प्रत्याशी हारा नहीं हैं.

चर्चा ये भी थी बीजेपी ने जिस विधायक सहेंद्र रमाला को टिकट दिया है, उसके सामने वीरपाल राठी कमजोर प्रत्याशी साबित हो सकते हैं. ऐसे में वायरल ऑडियो ने आग में घी डालने का काम कर दिया. बता दें कि बीजेपी प्रत्याशी सहेंद्र रमाला भी आरएलडी से ही विधायक बने थे और फिर बीजेपी में शामिल हो गए. हालांकि अभी तक वीरपाल राठी को टिकट देकर काटने के पीछे की वजह साफ नहीं हो सकी है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button