उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरलखनऊ

स्वतंत्र देव सिंह ने बताई मुलायम सिंह यादव से मिलने की वजह, अब अखिलेश यादव के इस रीट्वीट की चर्चा

भारतीय जनता पार्टी (BJP) की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह (Swatantra Dev Singh) ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने समाजवादी पार्टी के संस्थापक नेता मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) से सोमवार को मुलाकात की थी और उन्हें पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की ‘श्रद्धांजलि सभा’ ​​के लिए आमंत्रित किया था.

सिंह ने कहा, “मैं यहां श्रद्धांजलि सभा में आमंत्रित करने के लिए सोमवार को सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव जी से मिला था. मैंने बसपा प्रमुख मायावती जी से भी बात की थी और उन्होंने सतीश चंद्र मिश्रा को भेजा.” उन्होंने कहा कि मंगलवार को हुई सभा में करीब 40 छोटे दलों के प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया था, जिनमें 20-25 दलों ने कार्यक्रम में भाग लिया. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को श्रद्धांजलि देने के लिए राज्य की राजधानी में सभा का आयोजन किया गया था. इस आयोजन में मुलायम सिंह यादव शामिल नहीं हुए.

अखिलेश यादव के रीट्वीट ने हलचल बढ़ाई

इस बीच, सपा के डिजिटल मीडिया समन्वयक मनीष जगन अग्रवाल के एक ट्वीट को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रीट्वीट करके चर्चा में ला दिया. अग्रवाल ने सोमवार को ट्वीट किया था, ”आज बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह आदरणीय नेता जी से मिले! नेता जी ने स्वतंत्र देव सिंह को समाजवादी पार्टी में शामिल होने का प्रस्ताव दिया. स्वतंत्र देव सिंह बीजेपी में पिछड़ों और दलितों की अनदेखी से शायद नाराज हैं. स्वतंत्र देव सिंह इसे भले ही शिष्टाचार मुलाकात कहें लेकिन कुछ तो है?”

दरअसल, स्वतंत्र देव सिंह ने सोमवार को यादव से उनके आवास पर मुलाकात की थी और कहा था कि इस दौरान उन्होंने सपा नेता का हाल-चाल जाना. सिंह ने यादव के साथ अपनी मुलाकात की एक तस्वीर ट्विटर पर साझा की थी. सिंह ने ट्वीट में लिखा, “आदरणीय मुलायम सिंह जी ने ‘नेताजी’ से उनके आवास पर मुलाकात की, उनका हालचाल जाना और उनका आशीर्वाद भी लिया. मैं ईश्वर से उनके अच्छे स्वास्थ्य और लंबी उम्र की प्रार्थना करता हूं.” सिंह ने पिछले हफ्ते कल्याण सिंह के निधन के बाद मुलायम सिंह के बेटे अखिलेश यादव पर हमला बोलते हुए कहा था कि अखिलेश दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि देने के लिए अपने आवास से माल एवेन्यू तक मुश्किल से एक किलोमीटर की दूरी तय नहीं कर सके.

उन्होंने एक ट्वीट में सवाल उठाते हुए कहा था, “क्या मुस्लिम वोट बैंक के प्यार ने उन्हें (अखिलेश यादव को) पिछड़े वर्ग के सबसे बड़े नेता को श्रद्धांजलि देने से रोक दिया है?” हालांकि, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष पर पलटवार करते हुए सपा ने कहा था कि जब कल्याण सिंह को बीजेपी से निकाला गया था तो ‘समाजवादी’ ही थे जो सिंह के साथ खड़े थे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button