उत्तर प्रदेशगाजियाबादताज़ा ख़बर

तो इस वजह से गुरुद्वारे में कर दी गई सेना के जवान की पीट-पीटकर हत्या!

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में स्थित एक मंदिर में बच्चे की पिटाई का वीडियो वायरल हुआ और दावा किया गया कि पानी पानी के कारण उसके साथ ऐसा किया गया। सोशल मीडिया पर इससे संबंधित वीडियो वायरल होने के बाद हरकत में आते हुए पुलिस ने 13 मार्च को आरोपित को गिरफ्तार भी कर लिया। पूरे मामले को लेकर असहिष्णुता ब्रिगेड ने एक पक्ष को उत्पीड़क और अल्पसंख्यक को पीड़ित के तौर पर पेश करने में जुट गए। लेकिन एक घटना जिसके बारे में आपको गिने चुने मीडिया रिपोर्ट्स में ही जिक्र मिलेगा। लेकिन वो घटना बेहद ही क्रूर और निंदनीय है। लेकिन उसे नेशनल और इंटरनेशनल मीडिया में ज्यादा तव्ज्यों नहीं मिलेगी न ही उस पर आपको सोशल मीडिया पर जस्टिस की मांग को लेकर ट्रेंड दिखाई देंगे। क्योंकि ये उनके एजेंडे से मेल नहीं खाता है या उन्हें शूट नहीं करता है। हम बात कर रहे हैं गुरदासपुर की घटना के बारे में जब एक गुरद्वारे में सेना के जवान की हत्या की बात सामने आई है।
पानी पीने गए सेना के जवान को चोर समझ पीटकर मार डाला 
पंजाब के गुरदासपुर से एक शर्मशार कर देने वाली घटना सामने आई है। पठानकोट में लहाड़ी के रहने वाले भारतीय सेना के जवान दीपक सिंह अरुणाचल प्रदेश में तैनात थे और 6 महीने बाद अपने घर लौट रहे थे। अमृतसर एयपोर्ट पर उतरने के बाद दीपक पठानकोट आने के लिए बस में बैठे। लेकिन गलती से काहानूवान चौक उतर गए। बस फिर क्या था दीपक के पिता ओंकार के अनुसार देर रात 11 बजे उसे प्यास लगी तो वह गुरुद्वारा कुल्लियां वाला में पानी पीने चला गया। इसी दौरान कुछ लोगों ने उसे घेर लिया और चोर बताकर पिटाई कर दी। पुलिस ने किसी तरह उसे लोगों से छुड़वाया और अस्पताल में भर्ती करवाया। लेकिन, वहां दीपक ने दम तोड़ दिया।
गुरुद्वारे के प्रबंधक के खिलाफ मामला दर्ज
ऑप इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने शुरुआत में गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया था। इससे नाराज परिजनों और ग्रामीणों ने दीपक के शव को पठानकोट-अमृतसर नेशनल हाइवे पर रखकर चक्काजाम कर दिया। इसके बाद गुरुदासपुर पुलिस ने दो व्यक्तियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया। इस मामले में गुरुद्वारे के प्रबंधक गुरजीत सिंह और उसके साथी दलबीर सिंह पहाड़ा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button