बड़ी खबर

सऊदी अरब के एयरपोर्ट पर ड्रोन अटैक, आठ लोग घायल, एक यात्री विमान को भी पहुंचा नुकसान

सऊदी अरब (Saudi Arabia) के दक्षिण-पश्चिम में स्थित एक एयरपोर्ट (Airport) पर बम से लदे हुए ड्रोन के जरिए हमला (Drone Attack on Saudi Arabia Airport) किया गया है. इस हमले में आठ लोग घायल हो गए हैं और एयरपोर्ट पर खड़ा एक पैसेंजर विमान क्षतिग्रस्त हो गया है. किंगडम के सरकारी टेलीविजन ने इसकी जानकारी दी है. यमन (Yemen) में हूती विद्रोहियों (Houthi Rebels) के खिलाफ जारी जंग के बीच सऊदी अरब पर हुए ये सबसे ताजा हमला है. हालांकि, अभी तक इस हमले की किसी भी संगठन ने जिम्मेदारी नहीं ली है.

पिछले 24 घंटे में सऊदी अरब के अबहा एयरपोर्ट (Abha airport) पर हुआ ये इस तरह का दूसरा हमला है. इससे पहले एयरपोर्ट पर हुए हमले में कोई भी हताहत नहीं हुआ था. यमन में ईरान (Iran) समर्थित शिया विद्रोहियों से लड़ने वाले सऊदी नेतृत्व वाले सैन्य गठबंधन ने हमले के बारे में विस्तार से जानकारी नहीं दी. गठबंधन ने इस बात की भी जानकारी नहीं दी कि इस हमले में कितने लोग घायल हुए हैं. हालांकि, इसने कहा कि उसके बलों ने विस्फोटक ड्रोन को इंटरसेप्ट किया था. 2015 से हूती विद्रोही सऊदी अरब के गठबंधन वाली सेना से जंग लड़ रहे हैं. हूती विद्रोही अक्सर ही सऊदी अरब के एयरपोर्ट को निशाना बनाते रहे हैं.

फरवरी में भी इसी एयरपोर्ट पर हुआ था हमला

इससे पहले, फरवरी में यमन के हूती विद्रोहियों ने दक्षिण पश्चिम सऊदी अरब में अबहा इंटरनेशनल एयरपोर्ट को निशाना बना कर हमला किया, जिससे वहां खड़े एक यात्री विमान में आग लग गई. अल अखबारिया टीवी की खबर के मुताबिक दमकलकर्मियों ने आग पर काबू पा लिया था. इस हमले में कोई भी हताहत नहीं हुआ था. सऊदी नीत सैन्य गठबंधन के प्रवक्ता कर्नल तुर्की अल मलिकी ने कहा था कि गठबंधन बलों ने हूतियों द्वारा सउदी अरब की ओर भेजे गये बम लदे दो ड्रोन विमानों को नष्ट कर दिया. उन्होंने हमले की निंदा करते हुए इसे सऊदी अरब के दक्षिणी क्षेत्र में आम आदमी को निशाना बनाने के लिए जानबूझ कर की गई कोशिश करार दिया था.

यमन में छह साल युद्ध लड़ रहा है सऊदी अरब

वहीं, नवंबर 2017 में हूतियों ने रियाद के इंटरनेशनल एयरपोर्ट को निशाना बनाया था. ईरान हूतियों को हथियार एवं गोलाबारूद मुहैया करने के आरोपों से इनकार करता रहा है, हालांकि सबूतों और संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञ की रिपोर्ट से यह प्रदर्शित होता है कि हथियारों का संबंध तेहरान से है. यमन में करीब छह साल से हूतियों के खिलाफ सऊदी अरब युद्ध लड़ रहा है. यही वजह है कि अक्सर ही हूती विद्रोहियों द्वारा सऊदी अरब पर दवाब बनाने के लिए सीमा से सटे इलाकों में स्थित एयरपोर्ट पर हवाई हमले किए जाते हैं. हूती विद्रोहियों को लेकर सऊदी अरब और ईरान के बीच तनाव भी बरकरार है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button